Shifuji Shaurya Bhardwaj Shayari In Hindi

Dosto आपका स्वागत है मरे वेबसाइट में इस Post में हम आपको Shifuji Shaurya Bhardwaj Shayari
In Hindi Provide कर रहे हैं । नीचे दिए गए Kisi भी Shifuji Shaurya Shayari को चुन सकते हैं, और दुनिया को दिखा सकते हैं, कि आप किस चीज से बने हैं, आपको किस तरह का व्यक्तित्व मिला है।

Shifuji Shaurya Status In Hindi फीचर इस स्थिति में मददगार होंगे। इसलिए आज मैं Whatsapp के लिए अपना संग्रह के लिए साझा कर रहा हूं। नीचे दिए गए Shifuji Shayari में से कोई भी Shayari Status चुनें और अपनी Social जगहो पर Set करें। मुझे उम्मीद है कि आप इस संग्रह को व्हाट्सएप के लिए सबसे अच्छा Shifuji Shaurya Shayari Status पसंद करेंगे, Facebook और Twitter आदि जैसे Social Media पर इन शिफूजी शौर्य भरद्वाज शायरी संदेशों को Share करना न भूलें। आप लोग Comments में जरूर बताना की यह Post पड़कर आपको कैसा लगा |

Shifuji Shaurya Bhardwaj Shayari In Hindi


मौत की मंडियो  सब ने बढ़-बढ़ बोलिया दी है
मौत की मंडियो  सब ने बढ़-बढ़ बोलिया दी है|
जब कभी मांगी देश ने ने  कुर्बानी
माँओ ने भर-भर कर अपनी झोलिया दी है||

Maut ki Mandiyo Sabh ne Badh-Badh Boliya di Hai
Maut ki Mandiyo Sabh ne Badh-Badh Boliya di Hai,
Jab Kabhi Mangi Desh Kurbaani
Maao  ne Bhar-Bhar kar Apni Jholiya di Hai.

आओ झुककर करे सलाम जिनका ये मुकाम आता है,
आओ झुककर करे सलाम जिनका ये मुकाम आता है,
खुश नसीब होते वो लोग जिनका लहू वतन के नाम आता है.

Aao Jhuk kar Kare Salaam Jinka ye Mukaam Aata Hai,
Aao Jhuk kar Kare Salaam Jinka ye Mukaam Aata Hai,
Khush  Nasib Hote Wo Log Jinka Lahoo Watan ke Kaam Aata Hai.

आप मेरे से सब कुछ छीन सकते है,
मगर मेरी परवरिश और हिन्दुस्तानी होने का अभिमान नहीं||

Aap Mere se Sab Kuch Chin Sakte Hai,
Magar Meri Parvarish aur HINDUSTANI Hone ka Abhimaan Nahi.

वतन वालो वतन ना बेच देना ये धरती ये चमन ना  बेच देना,
शहीदों में जान दी है वतन के वास्ते शहीदों के कफ़न ना बेच देना।

Watan Walo Watan na Bech Dena ye Dharti ye Chaman na Bech Dena,
Shahido Ne Jaan di Hai Watan ke Waaste Shahido  ke Kafan na Bech Dena.

सोचिये मेरे वतन की दो औलादे है
एक जो, इससे अपना मानने से इंकार करते है|
और दुसरे वो जो इससे हर एक ज़र्रे के लिए अपनी मौत भी स्वीकार करते है||

Soochiye Mere Watan ki do Auladen Hai
Ek jo, Isse Apna Maanne se Inkar Karte Hai,
Aur Doosre Wo, Jo Isske Har Ek Zarre ke Liye Apni Maut bhi Sweekar Karte Hai.

सो जायेगी लिपटकर तिरंगे के साथ अलमारी में|
ये देश भक्ति है साहब कुछ तारीखों से ही जागती है||

So Jaayegi Lipatkar Tirange ke Saath Almari Mai,
Ye desh bhakti hai sahab, kuch tarikho se hi jaagti hai.

कश मेरी ज़िन्दगी में सरहद की कोई शाम आये
काश मेरी ज़िन्दगी में सरहद की  कोई शाम आये|
न खौफ है मौत का ना आरज़ू है जन्नत की
मगर जब कभी ज़िक्र हो शहीदों का|
काश मेरा भी नाम आये
काश मेरा भी नाम आय||

Kaash Meri Zindagi Me Sarhad ki Koi Shaam Aaye
Kaash Meri Zindagi Me Sarhad ki  Koi shaam Aaye,
Na Khof Hai Maut ka, Na Aarzoo Hai Jannat ki
Magar Jab Kabhi Zikr ho Shahido ka,
Kash Mera bhi Naam Aaye,
Kash Mera bhi Naam Aaye.

जब कोई पूछे मेरे बारे में
तो मेरी ये पहचान लिख देना|
उठाना मेरा कमांडो डेगर
और छाती पे हिन्दुस्तान लिख देना|
कोई पूछे पागल था वो कौन
तो shifuji Maurya और क्रान्तिकरियों का चेला
और इंकलाब का गुलाम लिख देना|
और बचा हो जो जिस्म में लहू मेरे
निकलना उसे, फेकना ज़मीं पे
और माँ तुझे सलाम लिख देना||

Jab Koi Pooche Mere Baare Mai
To Meri ye Pehchaan Likh Dena,
Uthana Mera Commando Dagger
Aur Chati pe HINDUSTAN Likh Dena,
Koi Pooche Pagal tha Wo Kaun
To BHAGAT SINGH aur Kraantikariyon ka Chela
Aur InQUILAB ka gulam likh dena,
Aur Bacha Ho Jo Jism me Lahoo Mere
Nikalana Use, Fekna Zamin Pe,
Aur MAA TUJHE SALAAM Likh Dena.

अल्लाह वालो, रामवालो, अपने मज़हब को सियासत से बचा लो
मंदिर मज़्जिद कभी फुर्सत में लेना|
जो  नफरत से टूटे है वो घर तो बना लो||
और एक ही रहने दो, शहीदों का तिरंगा झंडा
रोज़ नए झंडे में डंडा फ़साने वालो||

Allah Walo, Ram Walo, Apne Mazhab ko Siyasat se Bacha Lo
Mandir Majzid Kabhi Fursat me Bana Lena,
Jo Nafrat se Toote Hai Wo Ghar to Bana Lo.
Aur Ek hi Rehne Do, Shahido ka Tiranga Jhanda,
Roz Naye Jhande me Danda Fasane Walo.

धरम में मज़हब में बाट दिया यारो
माँ के आँचल को टुकड़ो में कर दिया धर्मो को
कुछ ने चुनरी को|
हरा कर दिया, कुछ ने भगवा, कुछ ने लाल, कुछ ने सफ़ेद
ये चुनर है यार माँ के आँचल को रंगो मत्त
क्यों की आँचल बिना रंग के भी माँ का ही आँचल होता है||

Dharam me Mazhab me Baat Diya Yaaro
Maa ke Aanchal ko Tukdo me Kar Diya Dharamo Ke
Kuch ne Chunari Ko,
Hara Kar Diya, Kuch ne Bhagwa, Kuch ne Laal, Kuch ne Safed
Ye Chunar he Yaar Maa ke Aanchal ko Rango Matt
Kyunki Aanchal Bina Rang ke bhi Maa ka hi Aanchal Hota Hai.

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है ज़ोर कितना बाजु-ए-कातिल में है।।
shifuji Maurya

sarapharoshi ki tamanna ab hamaare dil mein hai,
dekhana hai zor kitana baaju-e-kaatil mein hai..
shifuji maury

 राख का हर एक कण,
मेरी गर्मी से गतिमान है।
मैं एक ऐसा पागल हूं,
जो जेल में भी आजाद है।।

 raakh ka har ek kan,
meri garmee se gatimaan hai.
main ek aisa paagal hoon,
jo jel mein bhi aajaad hai..

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है ज़ोर कितना बाजु-ए-कातिल में है।।

sarapharoshi ki tamanna ab hamaare dil mein hai,
dekhana hai zor kitana baaju-e-kaatil mein hai..

जो भी व्यक्ति विकास के लिए खड़ा है,
उसे हर एक रुढ़िवादी चीज की आलोचना करनी होगी,
उसमें अविश्वास करना होगा, तथा उसे चुनौती देनी होगी।।

jo bhi vyakti vikaas ke lie khada hai,
use har ek rudhivaadi chij ki aalochana karani hogi,
usamen avishvaas karana hoga, tatha use chunauti deni hogi..

कलम की नोक हूँ
शब्दों की तोप हूँ
जरा बचके जनाब
पूरे करती हूं हिसाब..

kalam ki nok hoon
shabdon ki top hoon
jara bachake janaab
poore karati hoon hisaab..

क्या ख़ाक मज़ा है तड़प-तड़पकर जीने में
घुट-घुट कर स्वयं का दिन-रात लहु पीने में
जीओ शान से सदा जीओ
नहीं तो शान से मर जाओ

kya khaak maza hai tadap-tadapakar jine mein
ghut-ghut kar svayan ka din-raat lahu pine mein
jio shaan se sada jio
nahin to shaan se mar jao

Shifuji Shaurya Bhardwaj Status


इस कदर वाकिफ है मेरी कलम मेरे जज्बातों से अगर में इश्क लिखना भी चाहूँ तो इंकलाब लिखा जाता है

is kadar vaakiph hai meri kalam mere jajbaaton se agar mein ishk likhana bhi chaahoon to inkalaab likha jaata hai.

वो इश्क का आलम भी गजब रहा होगा …
राझाँ” जिसमे भगतसिंह” और
“हीर” जिसमे “आज़ादी” रही होगी…

vo ishk ka aalam bhi gajab raha hoga …
raajhaan” jisame bhagatasinh” aur
“hir” jisame “aazaadi” rahi hogi…

सीने में भगतसिंह ,,माथे पर हिन्दुस्तान रखते है |
दुश्मनो के लिए बगल में कब्रिस्तान रखते है |

sine mein bhagatasinh ,,maathe par hindustaan rakhate hai |
dushmano ke lie bagal mein kabristaan rakhate hai |

नौजवान जब उठते हैं तो निजाम बदल जाते हैं | भगतसिंह तो आज भी पैदा होते हैं बस नाम बदल जाते हैं |

naujavaan jab uthate hain to nijaam badal jaate hain | bhagatasinh to aaj bhi paida hote hain bas naam badal jaate hain |

उन जज्बातो की कद्र किया करते है जिनमे गाँधी नही भगतसिंह हुआ करता है |

un jajbaato ki kadr kiya karate hai jiname gaandhi nahi bhagatasinh hua karata hai |

इश्क़ करना हमारा पैदायशी हक़ है ,
तो क्यों न वतन ए मिट्टी को अपना महबूब बना लें..

ishq karana hamaara paidaayashi haq hai ,
to kyon na vatan e mitti ko apana mahaboob bana len..

इतिहास में गूँजता एक नाम हैं भगतसिंह
शेर की दहाड़ सा जश था जिसमे वे थे भगतसिंह
छोटी सी उम्र में देश के लिए शहीद हुए जवान थे भगतसिंह
आज भी जो “रोंगटे खड़े करदे ऐसे विचारो के धनि थे shifuji Maurya”

itihaas mein goonjata ek naam hain bhagatasinh
sher ki dahaad sa jash tha jisame ve the bhagatasinh
chhoti si umr mein desh ke lie shahid hue javaan the bhagatasinh
aaj bhi jo “rongate khade karade aise vichaaro ke dhani the shifuji maury”

 आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं।
तीन रंगों से रंगा तिरंगा, अपनी ये पहचान हैं

aan desh ki shaan desh ki, desh ki ham santaan hain.
tin rangon se ranga tiranga, apani ye pahachaan hain

ज़िन्दगी तो अपने दम पर जी जाती है,
दूसरों के कंधों पर तो सिर्फ जनाजे उठाए जाते हैं।
भगतसिंह आज़ादी के परवाने

zindagi to apane dam par ji jaati hai,
doosaron ke kandhon par to sirph janaaje uthae jaate hain.
bhagatasinh aazaadi ke paravaane

2 अक्टूबर होता तो राष्ट्रीय छुट्टी होती,
नेहरू का जन्मदिवस होता तो बाल दिवस मनाया जाता,
23 March की किसे पड़ी है!

2 aktoobar hota to raashtriy chhutti hoti,
neharoo ka janmadivas hota to baal divas manaaya jaata,
23 marchh ki kise padi hai!

उन जज्बातो की कद्र किया करते है
जिनमे गाँधी नही भगतसिंह हुआ करता है

un jajbaato ki kadr kiya karate hai
jiname gaandhi nahi bhagatasinh hua karata hai

अपने मन को समझाऊँ मैं कैसे ? मंगल गीत गाऊँ मै कैसे ?
भगतसिंह को फाँसी पर चढ़ा दिया जिनहोने, उनका नववर्ष मनाऊँ मै कैसे ?

apane man ko samajhaoon main kaise ? mangal git gaoon mai kaise ?
bhagatasinh ko phaansi par chadha diya jinahone, unaka navavarsh manaoon mai kaise ?

इस कदर वाकिफ है मेरी कलम मेरे जज्बातों से
अगर में इश्क लिखना भी चाहूँ तो इंकलाब लिखा जाता है !!
सैल्यूट ऑफ भगत

is kadar vaakiph hai meri kalam mere jajbaaton se
agar mein ishk likhana bhi chaahoon to inkalaab likha jaata hai !!
sailyoot oph bhagat

मुझे तन चाहिए, ना धन चाहिए
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए
जब तक जिंदा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए
और जब मरूं तो तिरंगा ही कफन चाहिए

mujhe tan chaahie, na dhan chaahie
bas aman se bhara yah vatan chaahie
jab tak jinda rahoon, is maatr-bhoomi ke lie
aur jab maroon to tiranga hi kaphan chaahie

ऐसे ही किसी बहादुर ने क्या खूब कहा है
हम बदले है तो निजाम बदल जाते है
सारे मंजर सारे आजम बदल जाते है
कोंन कहता हैं भगतसिंह फिर पैदा नहीं होते
पैदा तो होते हैं बस नाम बदल जाते है

aise hi kisi bahaadur ne kya khoob kaha hai
ham badale hai to nijaam badal jaate hai
saare manjar saare aajam badal jaate hai
konn kahata hain bhagatasinh phir paida nahin hote
paida to hote hain bas naam badal jaate hai

वो इश्क का आलम भी गजब रहा होगा …..!
राझाँ” जिसमे  भगतसिंह” और “हीर” जिसमे “आज़ादी” रही होगी……!!
जय_हिन्द

vo ishk ka aalam bhi gajab raha hoga …..!
raajhaan” jisame  bhagatasinh” aur “hir” jisame “aazaadi” rahi hogi……!!
jay_hind

मेरी नजर में हर उस शख्स में भगतसिंह जी जैसा क्रांतिकारी नजर आता है,
जो भारत के लिए जनसख्या बढोत्तरी और आरक्षण जैसी गम्भीर समस्या को खत्म करने के लिए आवाज उठाता हैं,
भगतसिंह जी ने भी कलम से ही सुरुवात की थी🙏

meri najar mein har us shakhs mein bhagatasinh ji jaisa kraantikaari najar aata hai,
jo bhaarat ke lie janasakhya badhottari aur aarakshan jaisi gambhir samasya ko khatm karane ke lie aavaaj uthaata hain,
bhagatasinh ji ne bhi kalam se hi suruvaat ki thi🙏

जनसंख्या व्रद्धि से पूरा भारत परेशान है और आरक्षण का दर्द केवल वो नौजवान ही समझ सकता है

janasankhya vraddhi se poora bhaarat pareshaan hai aur aarakshan ka dard keval vo naujavaan hi samajh sakata hai

भगतसिंह की पुण्यतिथि पर लाल रंग की होली हो,
जो भारत की जय ना बोले उसकी छाती में गोली हो।
भारत माता के वीर सपूत शहीद-ए-आज़म भगतसिंह, राज गुरु और सुखदेव के शहादत दिवस पर उन्हें नमन!!

bhagatasinh ki punyatithi par laal rang ki holi ho,
jo bhaarat ki jay na bole usaki chhaati mein goli ho.
bhaarat maata ke veer sapoot shahid-e-aazam bhagatasinh, raaj guru aur sukhadev ke shahaadat divas par unhen naman!!

राख का हर एक कण मेरी गर्मी से गतिमान है मैं एक ऐसा पागल हूं जो जेल में भी आज़ाद है।

raakh ka har ek kan meri garmee se gatimaan hai main ek aisa paagal hoon jo jel mein bhi aazaad hai.

ज़रूरी नहीं था की क्रांति में अभिशप्त संघर्ष शामिल हो, यह बम और पिस्तौल का पंथ नहीं था।

zaroori nahin tha ki kraanti mein abhishapt sangharsh shaamil ho, yah bam aur pistaul ka panth nahin tha.

बम और पिस्तौल क्रांति नहीं लाते, क्रान्ति की तलवार विचारों के धार बढ़ाने वाले पत्थर पर रगड़ी जाती है।

bam aur pistaul kraanti nahin laate, kraanti ki talavaar vichaaron ke dhaar badhaane vaale patthar par ragadi jaati hai.

क्रांति मानव जाति का एक अपरिहार्य अधिकार है। स्वतंत्रता सभी का एक कभी न ख़त्म होने वाला जन्म-सिद्ध अधिकार है। श्रम समाज का वास्तविक निर्वाहक है।

kraanti maanav jaati ka ek aparihaary adhikaar hai. svatantrata sabhi ka ek kabhi na khatm hone vaala janm-siddh adhikaar hai. shram samaaj ka vaastavik nirvaahak hai.

व्यक्तियो को कुचल कर, वे विचारों को नहीं मार सकते।

vyaktiyo ko kuchal kar, ve vichaaron ko nahin maar sakate.

निष्ठुर आलोचना और स्वतंत्र विचार ये क्रांतिकारी सोच के दो अहम लक्षण हैं।

nishthur aalochana aur svatantr vichaar ye kraantikaari soch ke do aham lakshan hain.

मरते मरते शहीद राजगुरु लिख गए हम भी जी सकते थे,
चुप रहकर और हमे भी माँ बाप ने पाला था दुःख सहकर!”

marate marate shahid raajaguru likh gae ham bhi ji sakate the,
chup rahakar aur hame bhi maan baap ne paala tha duhkh sahakar!”

सीने में भगतसिंह, माथे पर हिन्दुस्तान रखते है
दुश्मनो के लिए बगल में कब्रिस्तान रखते है….
⛳⛳भारत माता की जय⛳

sine mein bhagatasinh, maathe par hindustaan rakhate hai
dushmano ke lie bagal mein kabristaan rakhate hai….
⛳⛳bhaarat maata ki jay⛳

#पढ़ रहा हूँ इश्क ए इंकलाब की किताब
अगर बन गया भगतसिंह तो दुश्मनो तुम्हारी खैर नही

#padh raha hoon ishk e inkalaab ki kitaab
agar ban gaya bhagatasinh to dushmano tumhaari khair nahi

जर्जर ईटो से तुम कब तक, भला रोक सकोगे आँधी को
सच बोलुँगा अब मैं यारो, बुरा लगे चाहे गाँधी को
क्यूँ इतिहास छिपा रखा है, बोलो सन् सत्तावन का
गाँधी का फोटो छापा क्यूँ नोटो पर मरणासन्न का
रस्सी तुमने ढूँढ निकाली बकरी वाली गाँधी की
भगत की रस्सी कब ढूँढोगे, जिसपर उसको फाँसी दी
गाँधी-नेहरू के जन्म-मरण पर तुम छुट्टी दे देते हो
भगत-चन्द्र की बात करूँ तो क्यूँ चुप्पी ले लेते हो
अंधे सत्ता के रखवाले पीतल कर देंगे चाँदी को
सच बोलुँगा अब मैं यारो, बुरा लगे चाहे गाँधी को
#भगतसिह अमर रहे

jarjar eeto se tum kab tak, bhala rok sakoge aandhi ko
sach bolunga ab main yaaro, bura lage chaahe gaandhi ko
kyoon itihaas chhipa rakha hai, bolo san sattaavan ka
gaandhi ka photo chhaapa kyoon noto par maranaasann ka
rassi tumane dhoondh nikaali bakari vaali gaandhi ki
bhagat ki rassi kab dhoondhoge, jisapar usako phaansi di
gaandhi-neharoo ke janm-maran par tum chhutti de dete ho
bhagat-chandr ki baat karoon to kyoon chuppi le lete ho
andhe satta ke rakhavaale pital kar denge chaandi ko
sach bolunga ab main yaaro, bura lage chaahe gaandhi ko
#bhagatasih amar rahe

सच्चे शब्दों में सच के अहसास लिखूंगा
वक्त पढे जिसको कुछ इतना खास लिखूंगा
गीत गजल मुझ पर लिखेंगे लिखने वाले
मैंने बंदूक उठाई तो इतिहास लिखूंगा
जय हिन्द!!
वन्दे मातरम् !
इंकलाब जिन्दावाद***

sachche shabdon mein sach ke ahasaas likhoonga
vakt padhe jisako kuchh itana khaas likhoonga
git gajal mujh par likhenge likhane vaale
mainne bandook uthaee to itihaas likhoonga
jay hind!!
vande maataram !
inkalaab jindaavaad***

कैसे दूं श्रद्धांजलि मेरे देश के टुकड़े करने वाले को,
रोक न सका था जो फांसी आज़ादी लाने वाले की भले ही गांधी की धोती,
तेरे खातिर गहना था मुझे दिखा दो बस वो फंदा, जिसे भ़गतसिंह ने पहना था

kaise doon shraddhaanjali mere desh ke tukade karane vaale ko,
rok na saka tha jo phaansi aazaadi laane vaale ki bhale hi gaandhi ki dhoti,
tere khaatir gahana tha mujhe dikha do bas vo phanda, jise bhgatasinh ne pahana tha

नौजवान जब उठते हैं तो निजाम बदल जाते हैं
भगतसिंह तो आज भी पैदा होते हैं बस नाम बदल जाते हैं

naujavaan jab uthate hain to nijaam badal jaate hain
bhagatasinh to aaj bhi paida hote hain bas naam badal jaate hain

हालात-ए-मुल्क देख के रोया न गया,
कोशिश तो की पर मूंह ढक के सोया न गया..
जाने कितने झूले थे फाँसी पर कितनो ने गोली खाई थी,
क्यो झूठ बोलते हो साहब कि चरखे से आजादी आई थी..
भले ही गांधी की धोती तेरे खातिर गहना था,
मुझे दिखा दो बस वो फंदा जिसे भगतसिंह ने पहना था..
जह हिन्द

haalaat-e-mulk dekh ke roya na gaya,
koshish to ki par moonh dhak ke soya na gaya..
jaane kitane jhoole the phaansi par kitano ne goli khaee thi,
kyo jhooth bolate ho saahab ki charakhe se aajaadi aaee thi..
bhale hi gaandhi ki dhoti tere khaatir gahana tha,
mujhe dikha do bas vo phanda jise bhagatasinh ne pahana tha..
jah hind

ज़माने भर मे मिलते है आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता,
नोटों मे भी लिपट कर,सोने मे सिमटकर मरे है कई मगर,
तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता
shifuji मौर्य

zamaane bhar me milate hai aashik kaee,
magar vatan se khoobasoorat koee sanam nahin hota,
noton me bhi lipat kar,sone me simatakar mare hai kaee magar,
tirange se khoobasoorat koee kafan nahin hota
shifuji Maurya

दिल से निकलेगी न मरकर भी वतन की उल्फत,
मेरी मिट्टी से भी खुशबू-ए-वतन आएगी ।
शहीदेआज़म भगतसिंह जी की जयंती पर

dil se nikalegi na marakar bhi vatan ki ulphat,
meri mitti se bhi khushaboo-e-vatan aaegi .
shahideaazam bhagatasinh ji ki jayanti par

लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आयेगा,
मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाऐगा
मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि,
मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा

likh raha hoon main ajaamm jisaka kal aagaaj aayega,
mere lahoo ka har ek katara ikanlaab laaiga
main rahoon ya na rahoon par ye vaada hai tumase mera ki,
mere baad vatan par marane vaalon ka sailaab aayega

इश्क़ करना हमारा पैदायशी हक़ है , तो क्यों न वतन ए मिट्टी को अपना महबूब बना लें

ishq karana hamaara paidaayashi haq hai , to kyon na vatan e mitti ko apana mahaboob bana len

निष्ठुर आलोचना और स्वतंत्र विचार ये क्रांतिकारी सोच के दो अहम् लक्षण हैं|

nishthur aalochana aur svatantr vichaar ye kraantikaari soch ke do aham lakshan hai.

अगर बहरों को सुनना है , तो आवाज बहुत जोरदार होनी चाहिए|

agar baharon ko sunana hai , to aavaaj bahut joradaar honi chaahie.
Previous
Next Post »

Please Do Not Enter Any Spam Link In The Comment Box ConversionConversion EmoticonEmoticon